Shayari About Alcohol - Page 2

Mujhe Duniya Waalo

Mujhe Duniya Waalo Sharabi Na Samjho
Main Peeta Nahe Hoon Pilaayi Gai Hai

Mujhe Duniya Waalo

Tum Nahi Gham Nahi

तुम नहीं ग़म नहीं शराब नहीं,
ऎसी तन्हाई का जवाब नहीं

Tum Nahi Gham Nahi

Garche Ahal-E-Sharab Hai Hum Log

गरचे अहल-ए-शराब हैं हम लोग,
ये न समझो ख़राब हैं हम लोग

Aaye Kuch Abr Kuch Sharab Aaye

आये कुछ अब्र कुछ शराब आये,
उस के बाद आये जो अज़ाब आये

Aaye Kuch Abr Kuch

Yahan Koi Na Jee Ska

यहाँ कोई न जी सका, न जी सकेगा होश में,
मिटा दे नाम होश का,शराब ला शराब ला

Na Dil Me Koi Gham Rahe

न दिल में कोई ग़म रहे न मेरी आँख नम रहे,
हर एक दर्द को मिटा शराब ला शराब दे

Na Dil Me Koi Gham Rahe

Mere Ishq Bhi Hai

मेरे अश्क भी हैं इस में, ये शराब उबल न जाए,
मेरा जाम छूने वाले तेरा हाथ जल न जाए

Mere Ishq Bhi Hai

Sheesha Rahe Bagal Main

शीशा रहे बग़ल में जाम -ए -शराब लब पर,
साक़ी यही मज़ा है दो दिन की ज़िन्दगी में

Meri Tabahi Ka Ilzam

मेरी तबाही का इल्ज़ाम अब शराब पे है,
मैं और करता भी क्या, तुम पे आ रही थी बात

Meri Tabahi Ka Ilzam

Gar Aag Maikasho Ki

गर आग मैकशों की सज़ा है तो या ख़ुदा,
दोज़ख़ में एक नहर बहा दे शराब की

Gar Aag Maikasho Ki