Shayari About Attitude - Page 2

Sher Khud Apni Takat Se

शेर खुद अपनी ताकत से राजा कहलाता है
जंगल मे चुनाव नही होते!!

Sher Khud Apni Takat Se

Itna Bhi Guman Na Kar

इतना भी गुमान न कर अपनी जीत पर ऐ बेखबर,
शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं।

Itna Bhi Guman Na Kar

Gulami Toh Tere Ishq Ki Hai

गुलामी तो तेरे इश्क की हे वरना,
ये दिल कल भी नवाब था और आज भी हे!!

Gulami Toh Tere Ishq Ki Hai

Apni Shakhsiyat Ki

Apni Shakhsiyat Ki Kya Misaal Du Yaro Na Jane Kitne MashHoor Ho Gaye Mujhe Badnaam Karte Karte.

Apni Shakhsiyat Ki

Sher Ke Paw Main

शेर के पाँव में अगर काँटा चुभ जाए,
तो उसका ये मतलब नहीं की अब कुत्ते राज करेंगे!!

Sher Ke Paw Main

Koshish Yahi Rehti Hai

कोशिश यही रहती है कि हमसे कभी कोई रूठे ना,
मगर नजर अंदाज करने वालो को पलट कर हम भी नही देखते।

Koshish Yahi Rehti Hai

Chamak Suraj Ki Nahi

चमक सूरज की नहीं मेरे किरदार की है,
बर ये आसमाँ के अखबार की है,
मैं चलूँ तो मेरे संग कारवाँ चले,
बात गुरूर की नहीं, ऐतबार की है।

Chamak Suraj Ki Nahi

Bewaqt , Bewajah , Behisab

बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ, आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ।

Bewaqt , Bewajah , Behisab

Hathiyar Toh Sirf

हथियार तो सिर्फ सोंख के लिए रखा करते हे ,
खौफ के लिए तो बस नाम ही काफी हे ।

Hathiyar Toh Sirf

Fahlak Ko Zid Hai

फलक को ज़िद है जहाँ बिजलियाँ गिराने की ,
हमारी भी जिद है वहीँ आशियाँ बनाने की !

Fahlak Ko Zid Hai