Search

Bechani Jab Bhi Badti Hai

Vote This Post DownVote This Post Up +5

बेचैनी जब भी बढ़ती है, धुंए में उड़ा देता हूँ,
और लोग कहते हैं मैं सिगरेट बहुत पीता हूँ.

Category: Shayari About Cigarette

More Entries

Leave a comment