Janmashtami Sms In Hindi Font


माखन चुराकर जिसने खाया,
बंसी बजाकर जिसने नचाया,
ख़ुशी मनाओ उसके जन्मदिन की,
जिसने दुनिया को प्रेम का पाठ पढ़ाया।

माखन चोर नन्द किशोर,बांधी जिसने
प्रीत की डोर हरे कृष्ण हरे मुरारी,पूजती
जिन्हें दुनिया सारी, आओ उनके गुण
गाएं सब मिल के जन्माष्टमी मनाये.

कृष्ण जिनका नाम, गोकुल जिनका धाम,
ऐसे श्री कृष्ण भगवान को हम सब का
प्रणाम, जन्माष्टमी की हार्दिक
शुभकामनाएँ एवं कृष्ण जन्माष्टमी की बधाई.

नन्द के घर आनन्द भयो,
जो नन्द के घर गोपाल गयो,
जय हो मुरलीधर गोपाल की,
जय हो कन्हैया लाल की।

गोकुल में जो करे निवास,
गोपियों संग जो रचाये रास,
देवकी-यशोदा जिनकी मैया,
ऐसे हमारे किसन कन्हैया।

कृष्ण की महिमा, कृष्ण का प्यार,
कृष्ण में श्रद्धा, कृष्ण से संसार,
मुबारक हो आपको, जन्माष्टमी का त्यौहार।

माखन का कटोरा, मिश्री का थाल,
मिट्टी की खुशबू, बारिश की फुहार,
राधा की उम्मीदे, कृष्ण का प्यार,
मुबारक हों आपको, जन्माष्टमी का त्यौहार।

राधा की चाहत है कृष्णा,
उसके दिल की विरासत है कृष्णा,
चाहें कितना भी रास रचा ले कृष्णा,
दुनिया तो फिर भी कहती है,
राधे-कृष्णा, राधे-कृष्णा।

हम भी तेरी मोहनी मूरत दिल में छिपाये बैठे
है, तेरी सुन्दर सी छवि आँखों में बसाये बैठे
है; इक बार बांसुरी की मधुर तान सुनादे कान्हा,
हम भी एक छोटी सी आस जगाये बैठे है।

बंसी बजाकर सबको है नचाया, माखन चुराकर
भी खूब है खाया, जिसने दुनिया को खुशी
से जीना सिखाया, उस कान्हा के जन्मदिन
का त्यौहार है आया। हैप्पी कृष्ण जन्माष्टमी।

पलकें झुकें और नमन हो जाए, मस्तक झुके
और वंदन हो जाए, ऐसी नज़र कंहाँ से लाऊँ,
मेरे कन्हैया कि आप को याद करूँ
और आपके दर्शन हो जाए। जय श्री कृष्णा।

राधा की भक्ति, मुरली की मिठास, माखन
का स्वाद और गोपियों का रास, सब मिलके
बनाते हैं जन्माष्टमी का दिन ख़ास। नन्द
के घर आनंद भयो, हाथी घोड़ पालकी,
जय कन्हैया लाल की! शुभ जन्मआष्टमी!

आओ मिलकर सजाये नन्दलाल को,
आओ मिलकर करें उनका गुणगान!
जो सबको राह दिखाते हैं, और सबकी
बिगड़ी बनाते हैं! शुभ जन्मआष्ट्मी!

श्री कृष्ण के कदम आपके घर आये,
आप खुशियो के दीप जलाये, परेशानी
आपसे आँखे चुराए, कृष्ण जन्मोत्सव
की आपको शुभकामनायें हैप्पी जन्माष्टमी

देखो फिर कृष्ण जन्माष्टमी आयी हैं,
माखन की हांडी ने फिर मिठास बड़ाई हैं
कान्हा की लीला हैं सबसे प्यारी,
वो दे तुम्हे दुनिया भर की खुशिया सारी

गाय का माखन, यशोधा का दुलार,
ब्रह्माण्ड के सितारे कन्हैया का श्रृंगार।
सावन की बारिश और भादों की बहार,
नन्द के लाला को हमारा बार-बार नमस्कार।

लोगो की रक्षा करने
एक उंगली पर पहाड़ उठाया
उसी कन्हैया की याद दिलाने
जन्माष्टमी का पावन दिन आया

कन्हैया की महिमा कन्हैया का प्यार
कन्हैया में श्रद्धा कन्हैया से संसार
मुबारक हो आपको जन्माष्टमी का त्यौहार
बोलो राधे राधे।

प्रेम से कृष्णा का नाम जपो
दिल की हर इच्छा पूरी होगी
कृष्ण आराधना में इतना लीन हो जाओ
उनकी महिमा, जीवन खुशहाल कर देगी

Leave a comment

Word Verification * Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.