Announcement

Collapse
No announcement yet.

सहारा काफी नहीं

Collapse
X
  • Filter
  • Time
  • Show
Clear All
new posts

  • सहारा काफी नहीं

    टूटते दिल को तेरी इक याद का सहारा काफी नहीं,

    एक तरफ़ा प्यार कभी परवान नहीं चढ़ा करता ,

    दरया-ऐ-इश्क को एक किनारे का सहारा काफी नहीं,

    तुम रहने देना मैं अपनी लाश ख़ुद ही जला लूँगी ,

    मेरे जीने के लिए तेरे झूठे वादे का सहारा काफी नहीं
    तेरे बिन यु रही जिंदगी....जैसे ठहरी हुई इक नदी....यु कटा एक पल....जैसे काटी हो मैनें सदी....
Working...
X